Tranding topics

Major Power Projects of Jharkhand - झारखंड के प्रमुख विद्दुत परियोजनाए

       झारखंड  के प्रमुख विद्दुत परियोजनाए  


झारखंड के विद्दुत परियोजनाए  एंव उनके स्थापना ओर उत्पादन क्षमता के बारे मै  भी बिस्तार से बताएँगे ओर आपको ये बता देना चाहते है की झारखंड राज्य का गठन 15 नवम्बर 2000 को किया गया था , झारखंड एक आदिवासी बहुल राज्य है जिसके कारण यहा के शिक्षा का अभाव है , लेकिन झारखंड मै बिद्दुत उत्पादन करनी की क्षमता बहुत है क़्यंकी झारखंड एक खनिज संपदाओ से परिपूर्णराज्य है । तथा यहा बहुत सारी नदिया भी जिसके कारण से यहा जल बिद्दुत उत्पादन करने की बहुत संभबनाए है  

झारखंड  के प्रमुख विद्दुत परियोजनाए

 झारखंड  के प्रमुख विद्दुत परिजनाओ की संख्या

झारखंड मै कुल  मिलाकर  13   विद्दुत परिजनाओ  है ओर आपको ये जानना चाहिए की झारखंड  बिजली उत्पादन के मामले मै पीछे नहीं है यहाँ से बहुत से राज्यो को बिजली मुहिया करवाया जाता है

 झारखंड के ताप बिद्दुत परियोजनाए

झारखंड मै चार ताप बिद्दुत सयन्त्र है जो पतरातू , टेनुघाट , बोकारो , चन्द्रपुरा आदि मै है इन चारो ताप  बिद्दुत सयन्त्र से झारखंड के बहुत बड़े हिस्से हो बिजली मुहिया करवाया जाता है । 

सूची बद्ध झारखंड के विद्दुत परिजनाओ

1. पतरातू ताप बिद्दुत परियोजनाए :-पतरातू बिद्दुत परियोजना इसकी स्थापना 1952 मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 670 मेगावाट बिजली मिलती है

2.  तेनूघात बिद्दुत परियोजना :- टेनुघाट बिद्दुत परियोजना इसकी स्थापना 1953  मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 450 मेगावाट बिजली मिलती

3.  बोकारो ताप बिद्दुत परियोजना :- बोकारो  बिद्दुत परियोजना इसकी स्थापना 1955  मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 830  मेगावाट बिजली मिलती

4.  चन्द्रपुरा ताप बिद्दुत परिजोयना :- चन्द्रपुरा ताप बिद्दुत परियोजना इसकी स्थापना 1966  मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 780  मेगावाट बिजली मिलती

5.  दामोदर घाटी  जल  बिद्दुत परियोजना :- दामोदर घाटी जल  बिद्दुत परियोजना इसकी स्थापना 1948  मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 104  मेगावाट बिजली मिलती

6. स्वर्णरेखा जल  बिद्दुत केंद्र :- स्वर्ण रेखा  जल  बिद्दुत केंद्र इसकी स्थापना 1982   मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 130   मेगावाट बिजली मिलती 

7. कोन्नार जल  बिद्दुत केंद्र :- कोन्नार  जल  बिद्दुत केंद्र इसकी स्थापना 1955   मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 40,000   मेगावाट बिजली मिलती

8. बोकारो जल  बिद्दुत शक्ति :- बोकारो जल  बिद्दुत शक्ति  इसकी स्थापना 1967   मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 385   मेगावाट बिजली मिलती

9. मेथन   जल  बिद्दुत केंद्र:- मेथन  जल  बिद्दुत केंद्र इसकी स्थापना 1958   मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 76,00   मेगावाट बिजली मिलती

10. तिलैया   जल  बिद्दुत केंद्र:- तिलैया  जल  बिद्दुत केंद्र इसकी स्थापना 1953   मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 60,000   मेगावाट बिजली मिलती

11. बाल पहाड़ी  जल  बिद्दुत शक्ति ग्रह  :- बाल पहाड़ी  जल  बिद्दुत शक्ति इसकी स्थापना 1959   मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 20,000   मेगावाट बिजली मिलती

12. बर्मी   जल  बिद्दुत शक्ति  :- बर्मी  जल  बिद्दुत  शक्ति इसकी स्थापना 1960   मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 28,000   मेगावाट बिजली मिलती

13. पंचेत   जल  बिद्दुत परियोजना :- पंचेत  जल  बिद्दुत परियोजना इसकी स्थापना 1960   मै किया गया था  ओर यहाँ से झारखंड को 40,000   मेगावाट बिजली मिलती

झारखंड मै ताप बिद्दुत के नुकसान
झारखंड मै ताप बिद्दुत बहुत बड़ी मात्रा मै किया जाता है झारखंड मै चार ताप बिद्दुत उत्पादन करने वाले सयन्त्र है जिससे झारखंड को लगभग 2000 मेगावाट बिजली मिलती है लेकिन इसके बहुत नुकसान है आपको पता होना चाहिए की ताप बिद्दुत सयन्त्र को चलाने के लिए बहुत मात्रा मै कोयला की जरूरत  होती है जिसके कारण झारखंड के कोयला का उत्पादन बहुत तेजी से किया जा रहा है इससे झारखंड का कोयला भंडार मै कमी आ रही है एंव ताप बिद्दुत सयन्त्र को चलाने के लिए कोयला को जलाया जाता है जिससे झारखंड मै वायु प्रदूषण बहुत तेजी से बढ़ रहा है  

हम आशा है की आपको हमारे इस पोस्ट से बहुत सारा ज्ञान अर्जित हुआ होगा । अगर आपको इस तरह की educational  से संबन्धित पाठ चाहिए तो आप हमारे website :- www.examideas.in से जुड़ें रहे । धन्यबाद 










No comments

Note: Only a member of this blog may post a comment.